Political

MP: कौन बनेगा मुख्यमंत्री, रविवार को खत्म होगा सस्पेंस, शिवराज ने कहा-ये काम पार्टी का, मेरा नहीं

भोपाल। बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि मुख्यमंत्री के नाम पर सस्पेंस रविवार को खत्म हो जाएगा। जब उनसे पूछा गया कि कोई नया चेहरा भी आ सकता है क्या? इस पर उन्होंने कहा कि 10 तारीख का इंतजार करिए। इससे पहले मुख्यमंत्री कौन होगा? इस सवाल पर सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि यह तय करना पार्टी का काम है। इधर ग्वालियर में नरेंद्र सिंह तोमर के ‘बॉस’ लगे पोस्टर्स लगे हैं।

वहीं दिल्ली में गुरुवार शाम को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए पीएम आवास पहुंचे। बता दें कि बीजेपी में मध्यप्रदेश के साथ ही छत्तीसगढ़ और राजस्थान के लिए सीएम तय के लिए विचार-मंथन और बैठकों का दौर जारी है।

भाजपा ने संकेत दिए हैं कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए मौजूदा सीएम शिवराज सिंह चौहान के साथ पार्टी नए चेहरों के विकल्प पर भी जा सकती है। पार्टी के शीर्ष नेताओं की बैठक के बाद इन अटकलों को बल मिला है। फिलहाल, नाम फाइनल करने के लिए नतीजे आने के चौथे दिन आज भी मंथन चल रहा है।

सभी योजना के गुलदस्ते से मिली बंपर जीतः विजयवर्गीय

बीजेपी की जीत में लाड़ली बहना नहीं चली। मोदी मैजिक चला ? पूर्व में दिए इस बयान पर विजयवर्गीय ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि मैंने ऐसा नहीं बोला। मैंने कहा कि मोदी मैजिक चला और उसके साथ सारी योजनाएं चली। प्रधानमंत्री आवास योजना भी चली। आयुष्मान योजना भी चली। एक गुलदस्ता होता है योजनाओं का। उस गुलदस्ते में एक योजना लाड़ली बहना भी थी।

विजयवर्गीय ने कहा कि क्या छत्तीसगढ़ में लाड़ली बहना योजना थी ? इस कारण सिर्फ और सिर्फ मोदी जी का नेतृत्व, अमित शाह की रणनीति और नड्डा जी की पोलिंग बूथ और पन्ना प्रमुख की योजना थी। जो कारगर हुई। उसके कारण तीनों राज्यों में परिणाम आए।

मुख्यमंत्री तय करना मेरा नहीं, पार्टी का कामः शिवराज सिंह

इससे पहले, मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री कौन होगा? इस सवाल पर मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ‘यह काम पार्टी का है, मेरा नहीं।’ चुनावी नतीजों के बाद बीजेपी के सभी दिग्गज नेताओं ने दिल्ली में डेरा डाल रखा है, लेकिन सीएम शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश में ही डटे हैं।

दिल्ली नहीं जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमने मिशन 29 का काम शुरू कर दिया है। एमपी में लोकसभा की सभी 29 सीट भाजपा जीते और प्रदेश की जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गले में 29 कमल की माला डालेगी। इसीलिए जहां विधानसभा चुनाव में पराजय हुई है, वहां मैं जा रहा हूं। कांग्रेस के EVM पर सवाल उठाने पर बोले, ‘गड़बड़ होती तो कांग्रेस श्योपुर में क्यों जीतती।’

बता दें कि सीएम शिवराज सिंह गुरुवार को श्योपुर के दौरे पर पहुंचे। श्योपुर जिले की दोनों विधानसभा सीटें कांग्रेस ने जीती है। इससे पहले सीएम शिवराज बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में थे। छिंदवाड़ा जिले की सभी सातों विधानसभा सीटें कांग्रेस जीती है। शुक्रवार को शिवराज सिंह दिग्विजय सिंह के गढ़ राघौगढ़ जाएंगे। इस सीट से दिग्विजय के बेटे जयवर्धन सिंह जीते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button