Political

मुख्यमंत्री शिवराज ने गाया- दिल तुम्हारे प्यार का मारा है दोस्तों…:हमीदिया कॉलेज के अमृत महोत्सव हुए शामिल

भोपाल। हमीदिया कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय की स्थापना के 75 साल पूरे होने पर ‘अमृत महोत्सव 2023’ हुआ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कार्यक्रम में शामिल हुए। पुराने दोस्तों को याद कर CM ने गीत गाया ‘एहसान मेरे दिल पर तुम्हारा है दोस्तों, ये दिल तुम्हारे प्यार का मारा है दोस्तों’..। कार्यक्रम के अंत में ‘तुझको चलना होगा…’ गीत गाया। हालांकि ये कार्यक्रम पूरी तरह से बीजेपी का ही हो गया। 

मुख्यमंत्री भी इसी कॉलेज से पढ़े हुए हैं। उन्होंने 1978 इस कॉलेज से दर्शन शास्त्र में MA किया है। उन्होंने कहा, ‘सबसे सुखद पल स्कूल और कॉलेज के दिन होते हैं। मैं ABVP में नगर संगठन मंत्री था। सवेरे उठते ही साइकिल से पहले सेफिया कॉलेज जाता था। दुबला – पतला था। वहां मोटे-तगड़े छात्र नेता थे। मैं वहां भाषण देता था, वो लोग देखा करते थे कि यह कौन आ गया।

शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को हमीदिया कॉलेज में साइंस और दूसरे सब्जेक्ट्स जोड़ने की घोषणा की। बिल्डिंग को मॉडल बनाने की बात कही। कॉलेज के स्थापना दिवस पर उन्होंने कहा, ‘कॉलेज की भव्य बिल्डिंग कैसी बनाई जाए, इसके लिए नाप-तौल कर लीजिए। इसी महीने स्वीकृत करेंगे। कॉमर्स और आर्ट के अलावा साइंस या दूसरे सब्जेक्ट को जोड़ना है, तो यह भी किया जाएगा।’

वो अद्भुत दिन थे 

CM ने कहा ‘हमें जब रात में भूख लगती थी तो उनके मदन महाराज होटल पर जाकर भोजन करते थे। हमीदिया कॉलेज के पीछे चाय की गुमटियां हुआ करती थीं। यहां दोपहर में चाय पीकर नमकीन खाते थे। तब होस्टल थे तिलक, मालवीय, गोखले। होस्टल में रहकर लीला के यहां चाय पीते थे। न्यू मार्केट में शाम को बैठने के अड्‌डे थे- लिटिल कॉफी हाउस और समता। वो अद्भुत दिन थे। 

सितंबर में एक और कार्यक्रम करेंगे, नाचेंगे-गाएंगे

CM ने कहा, ‘आज औपचारिक कार्यक्रम हो गया। अब अनौपचारिक करना है। इसमें सारे पूर्व छात्र जमा हों, नाचे-गाएं, गीत-संगीत हो। कार्यक्रम CM हाउस या लाल परेड मैदान में रख सकते हैं। अभी सभी ऐसे बैठे हैं, जैसे PHd कर रहे हों। मजा ऐसे कार्यक्रम में नहीं आएगा। मस्ती का कार्यक्रम हम सितंबर में करेंगे। खाएंगे, पीएंगे…पीएंगे मतलब मैं गलत नहीं कह रहा।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button